ALL Political Crime Features National International Bollywood Sports Regional Religious Other
कोराना की विपदा के समय सरकार के अतिरिक्त सामाजिक संस्थाओं ने राहत का कार्य हाथ मे लिया।
March 27, 2020 •   ।अशफाक कायमखानी।

जयपुर।
             चीन से निकली कोराना वायरस की चीनगारी से राजस्थान प्रदेश को बचाने मे प्रधानमंत्री के लोकडाऊन की अपील से तीन दिन पहले राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने पूरे प्रदेश मे लोकडाऊन लागू करने की कार्यवाही का सभी स्तर पर सहरायना हो रही है। वही इस विपदा की घड़ी मे किसी को भी भूखा नही सोने देने का प्रण लेकर राहत पहुंचाने मे लगी गहलोत सरकार अपने स्तर पर भोजन व भोजन सामग्री हर जरुरतमंद तक पहुंचाने मे शिद्दत के साथ लगे होने के साथ साथ अनेक सामाजिक संगठन भी बहुत कठिन दौर मे बेहतरीन काम कर रहे है।
                 हालांकि राहुल गांधी की सलाह पर सरकारे इससे पहले कदम उठाकर दिहाड़ी मजदूरों को अपने अपने घर जाने का समय देकर उन्हें घर पहुंचने देती ओर फिर मार्च के दूसरे सप्ताह से ही लोकडाऊन सख्ती के साथ अमल मे ले आती तो आज जो भयानक हालात देखने को मिल रहे है वो शायद इतने भयानक नही होते। खैर जो गुजर गया वो तो गुजर गया लेकिन आगे का समय सरकारों को लोकडाऊन पर सख्ती बरतने व जनता को उस पर स्वत: अमल करना ही होगा।
             राजस्थान मे पिपलस यूनीयन फोर सिविल लिबर्टीज PUCL व होमलैश सोसायटी के वर्कर्स दिनरात भोजन व भोजन सामग्री जरुरतमंद तक पहुंचाने मे लगे हुये है। वही कायमखानी यूथ ब्रिग्रेड व कायम जकात फाऊंडेशन मारवाड़-शेखावाटी जनपद के अलावा अन्य क्षेत्र मे भोजन व भोजन सामग्री पहुंचाने मे प्रयासरत है। सीकर बेश पूर्व केंद्रीय मंत्री सुभाष महरिया व पूर्व विधायक नन्द किशोर महरिया द्वारा संचालित सुधीर महरिया स्मृति संस्थान ने सेंकड़ो भोजन सामग्री के पेकेट बनाकर जरुरतमंद की पहचान करके उनको देने का आपदा के इस हालात मे बडा काम कर रहे है।
            राजस्थान के कुछ नेता सेनेटाईजेसन का स्वयं छिड़काव करके दिखावा कर रहे है पर अधिकांश राजनेताओं ने अपने अपने क्षेत्र मे राहत कार्य को सम्भाल रखा है। मुख्यमंत्री की अपील पर अनेक राजनेताओं, उधोगपतियों, कोचिंग व स्कूल संचालको के अलावा निजी तोर पर मुख्यमंत्री राहत कोष मे फण्ड जमा करवाया है। दूसरी तरफ सरकारी अधिकारी व कर्मचारी संगठनों ने भी दिल खोलकर मुख्यमंत्री राहत कोष मे सेलेरी मे अंश देने का ऐहलान किया है। कमजोर व आर्थिक तोर पर असहाय राजस्थान वक्फ बोर्ड के कर्मचारियों ने भी एक दिन की सेलेरी मुख्यमंत्री राहत कोष मे देने की कह कर सबको ऐसा करने पर मजबूर कर दिया है।
           राजस्थान मे अब तक उनचास के करीब  कोराना  पोजीटिव मरीजों मे भीलवाड़ा से बीस मरीज का आंकड़ा बडा है। भीलवाड़ा के बाद जयपुर व फिर झूझंनु अधिक प्रभावित क्षेत्र बताते है। प्रदेश मे अबतक भीलवाड़ा के दो मरीजों की मोत हो चुकी है। बाकी जेरे इलाज है। सरकार का मेडिकल महकमा पूरी तरह रोगीयों का इलाज करने मे लगा हुवा है। पोजीटिव इटली दम्पत्ति का इलाज जयपुर मे किया जा चुका है। मरीजो की बढती तादाद को देखते हुये वक्फ बोर्ड चेयरमैन खानू खान ने बोर्ड की राजस्थान मे स्थित सम्पत्तियों को सरकार को आईसोलेशन सेंटर बनाने के उपयोग मे लेने का आफर किया है। दूसरी तरफ सीकर बेश एक्सीलेंस स्कूल व कालेज के शानदार भवनो को आईसोलेशन सेंटर बनाने के उपयोग मे लेने को सरकार को संचालक वाहिद चोहान ने पहले ही आफर कर रखा है। जोधपुर राजघराने ने अपने राजपरिवार द्वारा संचालित राजमाता दादीसा अस्पताल को आपदा के लिये उपयोग करने का आफर देकर अन्य लोगो को राह दिखाई है।
              भारत मे एक तरफ एक प्याली खिचड़ी के लिये कई किलोमीटर लाइन लग रही है। वही राजस्थान सरकार की दृढ इच्छा शक्ति व आम अवाम की खिदमत ऐ खल्क की भावना से ओतप्रोत होने के कारण प्रदेश मे लोगो के सामने भोजन का संकट अन्य प्रदेशों के मुकाबले कम देखा जा रहा है। मुख्यमंत्री द्वारा हर परिवार से अन्य दो परिवार के लिये भोजन बनाने की अपील का भी बहुत असर देखने को मिल रहा है। अपने पहले मुख्यमंत्री कार्यकाल मे अकाल राहत कार्य का बेहतरीन इंतजाम करने के कारण उन पर प्रदेश की जनता विश्वास जताती है।