ALL Political Crime Features National International Bollywood Sports Regional Religious Other
कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष, विधायक दल नेता समेत सैकड़ों कार्यकर्ता गिरफ्तार, शाम को हुए रिहा
July 7, 2020 • रिपोर्टर्स डाइजेस्ट डेस्क
लखनऊ, :: उत्तर प्रदेश में ध्वस्त हो चली कानून व्यवस्था के सवाल पर प्रदेश के राज्यपाल को ज्ञापन सौंपने जा रहे कांग्रेस नेताओं को पुलिस ने बल प्रयोग करके गिरफ्तार कर लिया। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष  अजय कुमार लल्लू, विधान परिषद दल की नेता आराधना मिश्रा ‘मोना’, पूर्व मंत्री  नसीमुद्दीन सिद्दीकी, अनु0जाति विभाग के प्रभारी श्री प्रदीप नरवाल, अनु0जाति विभाग के अध्यक्ष  आलोक प्रसाद, उपाध्यक्ष तनुज पुनिया समेत सैकडों कार्यकर्ताओं को पुलिस ने गिरफ्तार किया और बसों में भरकर इको गार्डेन ले गये जहां से सायं रिहा किया गया।


उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष  अजय कुमार लल्लू ने हिरासत से छुटने के बाद जारी प्रेस नोट में कहा कि कहा कि उत्तर प्रदेश में जंगलराज चल रहा है। पूरे सूबे में संवैधानिक व्यवस्था चरमरा कर ध्वस्त हो गयी है। अपराधी और गुंडों को योगी सरकार का संस्थागत संरक्षण मिला हुआ है। अपराधियों और गुंडों की योगी सरकार के मंत्रियों सहित अफसरों से करीबी रिश्ते उजागर हो गए है। तमाम वीडियो और वायरल हो रहे फोटो में इनकी निकटता सामने आ चुकी है। उन्होंने आगे कहा कि योगी राज में संविधान को ताक पर रख दिया गया है। कभी ऐसा नहीं हुआ है कि राज्यपाल को ज्ञापन देने सौंपने जा रहे लोगो को गैरकानूनी तरीके से गिरफ्तार किया गया हो। यूपी में योगी सरकार की तानाशाही और अत्याचार की इन्तिहा हो गयी है। उन्होने सवाल किया है कि क्या किसी राष्ट्रीय पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष को प्रदेश के संवैधानिक मुखिया से मिलकर ज्ञापन देना आपराधिक कृत्य है? उन्होने सरकार के इशारे पर ज्ञापन देने जाते समय गिरफ्तार किये जाने पर कड़ा रोष व्यक्त किया है।

कांग्रेस विधानमंडल दल की नेता  आराधना मिश्रा‘मोना’ ने कहा कि कानपुर में 8-8 पुलिस अधिकारियों एवं कर्मचारियों की हुई हत्या के बाद जो खुलासे मीडिया के माध्यम से सामने आ रहे हैं उससे यह साफ हो गया है कि योगी सरकार में पुलिस विभाग और अपराधियों की संलिप्तता का ही यह दुर्भाग्यपूर्ण परिणति है। जब आम जनता को सुरक्षा देने वाले ही सुरक्षित नहीं हैं तो आम जनता की सुरक्षा की जिम्मेदारी कौन लेगा? प्रदेश में पूरी तरह अराजकता और जंगलराज कायम हो गया है। मुख्यमंत्री का शासन-प्रशासन और पुलिस पर नियंत्रण नहीं रह गया है। अपराधी बेलगाम हो चुके हैं।

पूर्व मंत्री श्री नसीमुद्दीन सिद्दीकी ने कहा कि सत्ता के संरक्षण में गुण्डें फल-फूल रहे हैं कानपुर की घटना से पूरी तरह साफ हो गया है। प्रदेश में जिस तरह की अराजकता है, अपराधी जहां चाहते हैं घटना को अंजाम देते हैं और पुलिस सिर्फ मूकदर्शक बनी रहती है। यही कारण है कि आज प्रदेश में अपराधियों के हौसले बुलन्द हैं और आम जनता में भय का वातावरण व्याप्त हो गया है। योगी सरकार आम जनता को सुरक्षा प्रदान करने में पूरी तरह नाकाम साबित हुई है।