ALL Political Crime Features National International Bollywood Sports Regional Religious Other
औरैया हादसे में मृतकों की संख्या हुई 26
May 17, 2020 • रिपोर्टर्स डाइजेस्ट डेस्क

औरैया (उप्र),:: औरैया सड़क हादसे में रविवार को एक और प्रवासी मजदूर की मौत के साथ ही मृतकों की संख्या बढकर 26 हो गयी ।

औरैया पुलिस ने एक बयान में बताया कि शनिवार तडके लगभग तीन बजे सडक किनारे खडे डीसीएम मिनी ट्रक और ट्राला की टक्कर के बाद दोनों वाहन निकट के गडढे में पलट गये । हादसे में 24 प्रवासी मजदूरों की मौत हो गयी थी जबकि 36 अन्य घायल हो गये थे । शनिवार देर रात एक और घायल मजदूर ने दम तोड़ दिया था।

पुलिस ने बताया कि दुर्घटना तिकौली गांव में शिवाजी ढाबे के निकट हुआ । मृतकों की संख्या का ताजा आंकडा बताते हुए पुलिस ने कहा कि हादसे में 26 प्रवासी मजदूरों की मौत हो गयी है जबकि 34 अन्य घायल हैं ।

पुलिस के अनुसार दोनों ही वाहनों के ड्राइवरों, मालिकों और ट्रांसपोर्टरों के खिलाफ औरैया के कोतवाली थाने में भारतीय दंड संहिता, महामारी कानून और मोटर वाहन कानून की विभिन्न धाराओं के तहत मामला दर्ज कर लिया गया है ।

पुलिस ने बताया कि मामले की जांच चल रही है । दोनों ही वाहनों के ड्राइवरों, मालिकों और ट्रांसपोर्टरों को गिरफ्तार करने के प्रयास किये जा रहे हैं ।

दुर्घटना में घायल प्रवासी मजदूरों को सैफई आयुर्विज्ञान विश्वविद्यालय में भर्ती कराया गया है । विश्वविद्यालय के कुलपति डा. राज कुमार ने बताया कि चार प्रवासी मजदूरों की हालत अत्यंत चिन्ताजनक है । सात अन्य मजदूरों की हालत गंभीर है । अन्य मजदूरों को उपचार के बाद दो दिन में अस्पताल से छुटटी मिल सकती है ।

राजस्थान से पश्चिम बंगाल जा रहे घायल शिव कुमार ने बताया कि ट्राला में 40 से 50 लोग सवार थे । अचानक ट्राला ने ढाबे के निकट सडक किनारे खडे मिनी ट्रक को टक्कर मारी । दोनों ही वाहन निकट के गडढ में पलट गये । लोग नीचे गिर गये और कुछ ट्रक के नीचे आ गये ।

पुलिस ने बताया कि कई मजदूर झारखंड और पश्चिम बंगाल के थे जबकि कुछ पूर्वी उत्तर प्रदेश के कुशीनगर के थे ।

जिलाधिकारी अभिषेक सिंह ने शनिवार को बताया था कि अधिकांश मजदूर बोरियों के नीचे दबकर मर गये । कुछ ने अस्पताल ले जाते समय दम तोड दिया ।

राज्य सरकार ने मृतकों के परिजनों को दो दो लाख रूपये और गंभीर रूप से घायलों को पचास पचास हजार रूपये की आर्थिक मदद का ऐलान किया है । सरकार ने सीमावर्ती जिलों के जिलाधिकारियों को निर्देश दिया है कि वे प्रवासियों को बसें मुहैया कराने के आदेश का कडाई से अनुपालन करें ।