ALL Political Crime Features National International Bollywood Sports Regional Religious Other
822 सैम्पल लिए, 555 नगेटिव, 265 सैम्पल की रिपोर्ट पेडिंग  - चिकित्सा विभाग ने किया पांच लाख से अधिक घरों का सर्वे
April 17, 2020 • अशफ़ाक़ कायमखानी


    सीकर।
              कोरोना वायरस के संक्रमण की रोकथाम में जिला प्रशासन व चिकित्सा विभाग मुश्तैदी के साथ जुटा हुआ है। स्वास्थ्य कर्मियों द्वारा घर घर जाकर आमजन को जागरूक किया जा रहा है। वहीं दूसरे राज्यों व जिलों से आने वाले लोगों के स्वास्थ्य पर लगातार नजर रखी जा रही है। वहीं घर घर जाकर लोगों से जुकाम, बुखार, सुखी खांसी जैसे आईएलआई लक्षणों की जानकारी ली जा रही हैं।
जिला कलेक्टर यज्ञ मित्र सिंह देव के निर्देशन में चिकित्सा विभाग की ओर से ब्लॉक व गांवों में कोरोना वायरस के संक्रमण के बारे में आमजन को जानकारी दी जा रही है। विदेश व अन्य राज्यों से आए नागरिकों को घर और संस्थागत क्वारेन टाइन किया गया है। वहीं उनकी सेहत पर नजर भी रखी जा रही है। अन्य राज्यों से जिले में दाखिल होने वाले लोगों को सरकारी स्कूल, धर्मशाला में भी क्वारेनटाइन किया गया है।
अब तक लिए गए हैं 822 सैम्पल 
मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ अजय चौधरी ने बताया कि सीकर जिले के अब तक 822 सैम्पल लिए गए। इनमें से 555 की रिपोर्ट नगेटिव आई है। दो व्यक्ति पॉजीटिव पाए गए थे, इनमें एक ठीक भी हो गया है। इसके अलावा नागौर के डीडवाना के गांव देवराठी के एक व्यक्ति रिपोर्ट पॉजीटिव आने पर उसका जयपुर के एसएमएस अस्पताल में उपचार चल रहा हैं। 265 सैम्पल की रिपोर्ट प्रक्रियाधीन है। 
1258 व्यक्तियों को किया संस्थागत क्वारेन टाइन
उप मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ सीपी ओला ने बताया कि कोरोना संदिग्ध 41 व्यक्तियों को चिकित्सा संस्थान के आइसोलेशन वार्ड में भर्ती किया गया है। विभाग की ओर से अब तक 5 लाख 9 हजार 252 घरों का सर्वे कर 24 लाख 46 हजार 163 सदस्यों से आईएलआई लक्षणों के बारे में जानकारी ली गई हैं। इसके अलावा विभाग की ओर से 1258 व्यक्तियों को संस्थागत क्वारेनटाइन किया गया है। साथ ही 17 हजार 507 व्यक्तियों को होम क्वारेनटाइन किया गया है। 

हैल्थ टीमे पहुंच रही है घर घर
विभाग की ओर से जिले में 1100 से अधिक टीमें घर घर जाकर लोगों से सेहत संबंधी जानकारी ले रही है। वहीं विभाग की टीमों द्वारा विभाग द्वारा निर्धारित किए गए फॉरमेट उक्त जानकारियों को संकलित भी किया जा रहा हैं। आरबीएसके की मोबाइल हैल्थ टीम, एएनएम, एलएचवी और आशा सहयोगिनी घर घर जाकर लोगों की सेहत के डेटा जुटाने में लगी हुई है। ऊर्जा से सराबोर एएनएम आशा सहयोगिनी तथा आंगनबाड़ी कार्यकर्ता अपने वार्ड क्षेत्र में आमजन को कोरोना वायरस से बचाने के लिए जुटी हुई हैं।